तेज प्रताप और तेजस्वी में दरार, तेज प्रताप यादव ने लालू-राबड़ी मोर्चे का किया ऐलान

तेज प्रताप और तेजस्वी  में दरार, तेज प्रताप यादव ने लालू-राबड़ी मोर्चे का किया ऐलान

पटना: बिहार की राजनीति के दिग्गज माने जाने वाले लालू प्रसाद यादव का राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) दो हिस्सों में बंट गया है। लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव ने नई पार्टी 'लालू-राबड़ी मोर्चा' का ऐलान कर दिया है। इसी के साथ उन्होंने सारण लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की भी बात कही है। गौरतलब है कि तेज प्रताप यादव आरजेडी की ओर से सारण लोकसभा सीट पर चंद्रिका राय को चुनाव मैदान में उतारने को लेकर नाराज चल रहे थे। चंद्रिका राय तेज प्रताप यादव के ससुर हैं।

तेज प्रताप यादव ने यह भी कहा, 'सारण लोकसभा सीट लालूजी की पुश्तैनी सीट रही है। हम चाहते हैं कि वहां से हमारी माताजी यानी राबड़ी देवी चुनावी मैदान में उतरें। यदि वह चुनाव नहीं लड़ती हैं तो मैं उस सीट से चुनाव लड़ूंगा और जीतूंगा भी क्योंकि यहां की जनता का आशीर्वाद मेरे साथ है।'

'तेजस्वी ने नहीं दिया कोई रिस्पॉन्स'
लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप ने तेजस्वी से बातचीत पर कहा, 'कृष्ण की बात अर्जुन मानते हैं न। महागठबंधन की जब प्रेस कॉन्फ्रेंस थी तो उससे पहले बातचीत हुई। अभी तक कोई रिस्पॉन्स नहीं आया। तारीख पर तारीख आ रही है। रही बात पार्टी की तो क्या कार्रवाई करेगी मेरे खिलाफ, सीधी सी बात है जनता को अनसुना नहीं करना है। हम जो भी हैं वह जनता दल की बदौलत हैं।'

'भाई-भाई और परिवार को बदनाम करने की साजिश'
तेज प्रताप ने कहा, 'हमको दो सीट चाहिए- शिवहर और जहानाबाद। जहानाबाद से जो नाम उन्होंने (RJD) घोषित किया है वह तीन बार से चुनाव हारते चले आ रहे हैं। जनता आक्रोशित है, पूरी जनता इनको नहीं चाहती है, जनता नौजवान को चाहती है। हमने इन लोगों के लिए मोर्चा खोला है। राष्ट्रीय जनता दल में जिस तरह से लोग ऊल-जुलूल बात करते हैं, तेजस्वी के पैर के नीचे, सीट के नीचे, डेरा बनाकर भाई-भाई और परिवार को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है, हमारी लड़ाई में दुश्मन फायदा उठाएगा।'

'नामांकन के वक्त बताएंगे बाकी की सीटें'
आरजेडी बनाम आपके (तेज प्रताप) मुकाबले में बीजेपी को फायदा होगा? इस पर लालू प्रसाद के बड़े बेटे ने कहा, 'बीजेपी को क्या फायदा होगा, वह तो वैसे ही खत्म हो रही है। नामांकन करने जब जाएंगे, तब बाकी की सीटें बताएंगे। रही बात इस्तीफे की तो उसमें वक्त लगता है क्या।' बता दें कि हाल ही में तेज प्रताप यादव ने अपने ऑफिशल ट्विटर अकाउंट पर लिखा था, 'छात्र राष्ट्रीय जनता दल के संरक्षक के पद से मैं इस्तीफा दे रहा हूं। नादान हैं वे लोग जो मुझे नादान समझते हैं, कौन कितना पानी में है सबकी ख़बर है मुझे।'