बंपर जीत के बाद काशी विश्वनाथ की शरण में दर्शन लाभ हेतु वाराणसी पहुंचे नरेंद्र मोदी

बंपर जीत के बाद काशी विश्वनाथ की शरण में दर्शन लाभ हेतु वाराणसी पहुंचे नरेंद्र मोदी

वाराणसी: लोकसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत के बाद शपथ ग्रहण (30 मई) से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंच गए हैं। पीएम मोदी के साथ बीजेपी चीफ अमित शाह भी हैं। पीएम के स्वागत के लिए काशी की सड़कों पर सांस्कृतिक कुंभ सा नजारा दिख रहा है। अलग-अलग राज्यों से आए ये कलाकार संस्कृति बिखेर रहे हैं। पीएम मोदी पहले बाबा विश्‍वनाथ और शहर कोतवाल काल भैरव का दर्शन पूजन करेंगे। इसके बाद दूसरी बार सांसद चुनने के लिए जनता और कार्यकर्ताओं का आभार जताएंगे।

यह पहला मौका है जब नरेंद्र मोदी बतौर कार्यवाहक प्रधानमंत्री काशी में होंगे। उनके स्वागत के लिए भगवा रंग के गुब्बारों से सजावट की गई है, तो फूलों की बारिश का इंतजाम भी किया गया है। इससे पहले बाबतपुर एयरपोर्ट पर पहुंचने के बाद वह हेलिकॉप्‍टर से पुलिस लाइन के लिए निकल गए। यहां आकर वह सड़क मार्ग से काशी विश्‍वनाथ मंदिर जाएंगे। पुलिस लाइन से विश्‍वनाथ मंदिर तक की सात किलोमीटर की दूरी बंद गाड़ी में तय करेंगे। सूत्रों का कहना है कि इस दौरान मोदी धीमी रफ्तार में चलेंगे, यह अघोषित रोड शो जैसा होगा। 

20 क्विंटल गुलाब की बारिश
यह पूरा रास्‍ता, चौराहे, नुक्‍कड़ मार्ग और भवन झंडे-बैनरों और भगवा रंग के गुब्बारे से सजाए गए हैं। मोदी पर गुलाब की पंखुड़ियों की बारिश की तैयारी है। इसके लिए 20 क्विंटल फूलों का इंतजाम किया गया है। काशी प्रांत के उपाध्‍यक्ष और मीडिया प्रभारी धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि नरेंद्र मोदी के आने पर पूरी काशी भगवामय होगी। जनता और बीजेपी के नेता व कार्यकर्ता रास्‍ते में जगह-जगह उनका स्वागत करेंगे।

नौवीं बार बाबा की शरण में
मोदी एक माह पहले 25 अप्रैल को नामांकन करने दो दिन के लिए काशी पहुंचे थे। तभी रोड शो के बाद मां गंगा की आरती की थी। अब जीत के बाद वाराणसी में वो बाबा विश्‍वनाथ का अभिषेक करेंगे। प्रोटोकॉल के मुताबिक मोदी ज्ञानवापी द्वार से बाबा के दरबार में प्रवेश करेंगे। पूजा आधे घंटे चलेगी। यह नौवां मौका होगा जब मोदी काशी विश्‍वनाथ की शरण में होंगे। कर्मस्‍थली के रूप में काशी को चुनने के बाद वह 21वीं बार वाराणसी आ रहे हैं। 2014 में सांसद चुने जाने से पहले भी उन्‍होंने बाबा का आशीर्वाद लेकर ही पहली सभा की थी।

शाही स्‍वागत की तैयारी
प्रधानमंत्री दर्शन-पूजन के बाद पुलिस लाइन आकर हेलिकॉप्टर से बड़ालालपुर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय हस्‍तकला संकुल पहुंचेंगे। यहां मतदाताओं और बूथ स्‍तर कार्यकर्ताओं से रूबरू होंगे। उनकी मेहनत और लगन के प्रति आभार जताएंगे। समारोह में राष्‍ट्रीय, प्रदेश, काशी क्षेत्र, महानगर व जिला कमिटी के पदाधिकारी व जन प्रतिनिधि भी मौजूद रहेंगे। पांच हजार से ज्‍यादा कार्यकर्ताओं के समागम में प्रधानमंत्री का शाही स्‍वागत और अभिनंदन की तैयारी है। इस दौरान बूथ प्रमुखों से उनका सीधा संवाद होगा। करीब तीन घंटे काशी प्रवास के बाद मोदी दिल्ली लौट जाएंगे।

विश्‍वनाथ मंदिर भी सज रहा
बाबतपुर एयरपोर्ट से विश्‍वनाथ मंदिर तक सफाई के लिए दो शिफ्ट में कर्मचारियों को लगाया गया है। विश्‍वनाथ मंदिर को फूल-मालाओं से सजाया गया है। रविवार को कमिश्‍नर दीपक अग्रवाल ने तैयारियों का जायजा लिया।

सुरक्षा का ग्रैंड रिहर्सल
प्रधानमंत्री की सुरक्षा के मद्देनजर एसपीजी अधिकारी रविवार को वाराणसी पहुंचे। बाबतपुर एयरपोर्ट और पुलिस लाइन में अडवांस सिक्यॉरिटी लाइजनिंग (एएसएसल) की बैठक कर एसपीजी अधिकारियों ने सुरक्षा व्‍यवस्‍था की कार्ययोजना को अंतिम रूप दिया। इसके बाद पुलिस लाइन हेलिपैड, काशी विश्‍वनाथ मंदिर और बड़ा लालपुर स्थित हस्‍तकला संकुल का निरीक्षण किया। वायुसेना के हेलिकॉप्‍टरों ने एयरपोर्ट से पुलिस लाइन तक उड़ान भर टच ऐंड गो तथा डमी फ्लिट का ग्रैंड रिहर्सल किया गया।

दस IPS संभालेंगे कमान
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा व्‍यवस्‍था की कमान दस आईपीएस अधिकारी संभालेंगे। इनके साथ अन्य अफसर भी रहेंगे। 24 एडिशनल एसपी, 40 डेप्युटी एसपी, 18 थानेदार, 200 दरोगा, 1800 कॉन्स्टेबल, 20 कंपनी सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स व पीएसी तैनात की गई है।