राहुल और तेजश्वी के बीच कहीं कोई अहंकार तो नहीं जिसमें जलने वाला हो बिहार का महागठबंधन

राहुल और तेजश्वी के बीच कहीं कोई अहंकार तो नहीं जिसमें जलने वाला हो बिहार का महागठबंधन

पटना :  राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस और उसके अध्यक्ष राहुल गाँधी और क्षेत्रीय पार्टी राष्ट्रीय जनता दल और लालू प्रसाद यादव के सुपुत्र तेजश्वी यादव में और उनके नेताओं के बीच में सीटों के लेकर बार बार विवाद उलझता नजर आ रहा है लेकिन हाल ही में दोनों पार्टियों   अपने समर्थकों को आश्वस्त किया की अब "आल इज वेल" है। 

बिहार में राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) और कांग्रेस में सीटों के बंटवारे को लेकर चल रहा विवाद सुलझ गया है। पटना में एक साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राज्य के पूर्व डेप्युटी सीएम और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने लोकसभा सीटों को लेकर हिस्सेदारी का ऐलान किया। सीट शेयरिंग के फॉर्म्युले के तहत सुपौल और पटना साहिब लोकसभा सीट कांग्रेस के खाते में आई है। वहीं, पाटलिपुत्र, दरभंगा, सारण और बेगूसराय सीट आरजेडी के हिस्से में गई है। इसके साथ ही सीवान, महाराजगंज, बक्सर, जहानाबाद और गोपालगंज सीट भी लालू प्रसाद यादव की पार्टी आरजेडी के पास आई है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान तेजस्वी यादव ने कहा, 'महागठबंधन अटूट है और हमने पहले भी कहा है कि यह महागठबंधन जनता के दिलों का गठबंधन है। आने वाली लड़ाई संविधान बचाने की है। लोकतंत्र को बचाने की है। न्याय और अन्याय, सच और झूठ की लड़ाई है। दो चरण के उम्मीदवारों की घोषणा पहले ही कर दी है।' तेजस्वी ने इस दौरान बाकी के पांच चरणों की सीटों पर पार्टीवार सीट शेयरिंग का ऐलान किया। 

आरजेडी के पास ये 19 सीटें
भागलपुर, बांका, मधेपुरा, दरभंगा, वैशाली, गोपालगंज, सीवान, महाराजगंज, सारण, हाजीपुर, बेगूसराय, पाटलिपुत्र, बक्सर, जहानाबाद, नवादा, झंझारपुर, अररिया, सीतामढ़ी, शिवहर

कांग्रेस के पास ये 9 सीटें
किशनगंज, कटिहार, पूर्णिया, समस्तीपुर, मुंगेर, पटना साहिब, सासाराम, वाल्मीकि नगर, सुपौल

अन्य दलों को ये 12 सीटें
आरएलएसपी- 5 सीटें (पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, उजियारपुर, काराकाट, जमुई)
हम- 3 सीटें (नालंदा, औरंगाबाद और गया)
वीआईपी- 3 सीटें (मधुबनी, मुजफ्फरपुर, खगड़िया)
सीपीआई (एमएल) के पास आरा सीट

आरजेडी के ये उम्मीदवार भागलपुर- बुलो मंडल 
मधेपुरा- शरद यादव
बांका- जयप्रकाश नारायण यादव 
दरभंगा- अब्दुल बारी सिद्दीकी
वैशाली- रघुवंश प्रसाद सिंह 
गोपालगंज- सुरेंद्र राम 
सीवान-हिना सहाब 
महाराजगंज- रणधीर सिंह 
सारण- चंद्रिका राय 
हाजीपुर- शिवचंद्र राम 
बेगूसराय- तनवीर हसन 
पाटलिपुत्र- मीसा भारती 
बक्सर- जगदानंद सिंह 
जहानाबाद-सुरेंद्र यादव 
झंझारपुर-गुलाब यादव 
नवादा- विभा देवी
अररिया-सरफराज आलम 
सीतामढ़ी-अर्जुन राय 

शिवहर सीट से आरजेडी उम्मीदवार का नाम बाद में घोषित किया जाएगा। वहीं, वीआईपी के हिस्से में आई मधुबनी लोकसभा सीट पर भी उम्मीदवार के नाम का ऐलान बाद में होगा। वीआईपी के अध्यक्ष मुकेश सहनी खगड़िया सीट और मुजफ्फरपुर से डॉ राजभूषण चौधरी निषाद चुनाव लड़ेंगे। कांग्रेस ने भी शुक्रवार को बिहार की चार लोकसभा सीटों सुपौल (रंजीता रंजन), समस्तीपुर (डॉ. अशोक राम), सासाराम (मीरा कुमार) और मुंगेर (नीलम देवी) पर अपने कैंडिडेट्स के नाम की घोषणा की है। 

सीटों का विवाद व खींचतान 
चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद बिहार में विपक्षी महागठबंधन ने आखिरकार लंबी जद्दोजहद के बीच सीटों के बंटवारे का ऐलान किया था, लेकिन कुछ ही दिनों में गठबंधन की दीवार दरकती हुई दिखने लगी। दरभंगा और सुपौल सीट को लेकर महागठबंधन के 2 बड़े सहयोगियों कांग्रेस और आरजेडी में मतभेद उभरकर सामने आए। आरजेडी-कांग्रेस में विवाद की वजह से बिहार में मिथिलांचल समेत बाकी सीटों पर महागठबंधन के उम्मीदवारों का ऐलान भी टल गया था। दूसरी तरफ एनडीए पहले ही अपने उम्मीदवारों का ऐलान कर चुकी है।

संकट को गहराने से रोकने के लिए बिहार कांग्रेस चीफ मदन मोहन झा जहां गुरुवार को दिल्ली पहुंचे, वहीं आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने गुरुवार को अपने सभी कार्यक्रमों को रद्द कर दिया।