अमेठी में कांग्रेस को बड़ा झटका, राहुल के खिलाफ लड़ेंगे सोनिया के करीबी

अमेठी में कांग्रेस को बड़ा झटका, राहुल के खिलाफ लड़ेंगे सोनिया के करीबी

अमेठी: 2019 लोकसभा चुनाव के जरिए सत्ता में वापसी की राह देख रही कांग्रेस को उसके सबसे बड़े गढ़ अमेठी में तगड़ा झटका लगा है। यही नहीं, कांग्रेस को झटका देने वाले हाजी राशिद पीढ़ियों से पार्टी के विश्वासपात्र और सोनिया गांधी के काफी करीबी माने जाते हैं। जी हां, राहुल गांधी के पिता और पूर्व पीएम राजीव गांधी के समय से कांग्रेस परिवार के काफी करीबी रहे मोहम्मद सुलतान के बेटे हाजी मोहम्मद हारून राशिद ने अमेठी सीट पर राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान कर कांग्रेस सहित सभी को चौंका दिया है। बता दें कि हारून के पिता सुलतान अमेठी निर्वाचन क्षेत्र से राजीव गांधी और सोनिया गांधी के नामांकन के दौरान प्रस्तावकों में से एक रहे हैं। 

राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान करने वाले हारून कांग्रेस पर अमेठी में विकास नहीं करने का आरोप लगाते हैं। हमारे सहयोगी टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में राशिद ने कहा, 'कांग्रेस क्या कहती है और क्या करती है, इसमें बहुत बड़ा अंतर है। अमेठी से बेहतर इसके लिए और कहां उदाहरण दिया जा सकता है। अमेठी में आज जिस तरह से पिछड़ा हुआ है, उसे कोई भी यहां आकर यह सच्चाई समझ सकता है कि यहां जमीन पर कुछ काम नहीं हुआ है। मैं अमेठी के बेहतर भविष्य के लिए अब राहुल गांधी के खिलाफ यहां से चुनाव लड़ूंगा।'

 '70 साल दिया कांग्रेस का साथ, अब और नहीं'
हारून के पिता मोहम्मद सुलतान कांग्रेस के पुराने कार्यकर्ता रहे हैं। राशिद कहते हैं, '1910 में जन्मे मेरे पिता जब बहुत युवा थे तभी कांग्रेस से जुड़ गए थे। हमने 70 से अधिक समय तक कांग्रेस को अपना समर्थन दिया है लेकिन अब हमें अहसास हो रहा है कि पार्टी यहां (अमेठी) विकास ही नहीं करना चाहती है। 70 साल तक हमने बहुत कुछ गंवा दिया है, अगर हम अब भी नहीं जगे तो फिर हम अपनी तकदीर और अमेठी की तस्वीर नहीं बदल पाएंगे।' 

समाजवादी पार्टी के नेता कर रहे समर्थन!
जब यह पूछा गया कि किस पार्टी से चुनाव लड़ने का उन्होंने मन बनाया है, हारून ने कहा, 'मैं विकल्पों (पार्टी को लेकर)का मूल्यांकन कर रहा हूं।' हालांकि वहां ऐसी खबरे हैं कि राशिद को समाजवादी पार्टी के कुछ नेता वहां समर्थन दे रहे हैं।