उत्तेर प्रदेश में मुस्लिम माया-अखिलेश के गठबंधन को वोट देंगे : मायावती, बसपा सुप्रीमो

पहले ये गाना सुन लेते है..जी...तू हिन्दू बनेगा, न मुसलमान बनेगा....शायद कुछ याद आ जाये !

आज धुल का फूल फिल्म के इस गीत की आश्यकता आन पड़ी है...जो सन १९४७ में हुआ था कहीं फिर से देश को उसी राह पर न धकेल रहे हों ये राजनितिक दल जो धर्म के आधार पर, जाति के आधार पर आज वोट मांग रहे है, आरक्षण माँगते रहते है, कहीं इस देश की जमीन न माँगने लग जाये और फिर अगर इस देश में यह हालत पैदा हुई तो टुकड़े-टुकड़े गैंग और उनको सहयोग करने वाली राजनैतिक दल, भारत  की संप्रभुता को तार तार कर देंगे. ये ऐसे निभायेंगे इस देश में चुनाव..?? चिंता हो रही है ? बसपा, सपा, राजद, तृणमूल, कांग्रेस, इस तरह से चुनाव लड़ेंगे जैसे बीजेपी लड़ती थी और यही लोफ ध्रुवीकरण का आरोप लगते थे? क्या सत्ता के स्वार्थ में सुर बदला नहीं रहा?  

इस देश की जनता जानना चाहती है कि इन पार्टियों अजेंडा को कैसे लागू करना चाहते है, इनके अजेंडे किस आधार पर सफल होंगे ? क्या रोडमैप है इनका? देश को कैसे बनायेंगे? पर दुःख इस बात की है कि देश की एकता व अखण्डता पर ये लोग चुनाव में कुठाराघात कर रहे हैं  और इन्हें इल्म तक नहीं.  

इस मामले में सुप्रीम कोर्ट और चुनाव आयोग, दोनों मिलकर देश के राष्ट्रपति से शिकायत करनी चाहिए..इसे ख़त्म करना उसी तरह से आवश्यक है जिस तरह से आतंकवाद.

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने बीएसपी चीफ मायावती के मुस्लिमों से वोट नहीं बंटने देने की अपील करने वाले बयान पर जमकर निशाना साधा है।

गृह मंत्री ने मायावती को घेरते हुए कहा कि हिंदू-मुसलमान के आधार पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। लोकतंत्र में इस तरह के बयान को स्वीकार नहीं किया जा सकता है। गृह मंत्री ने समाचार एजेंसी ANI को दिए इंटरव्यू में कहा, 'जाति, संप्रदाय और धर्म के आधार पर राजनीति नहीं होनी चाहिए।' गृह मंत्री ने साथ ही मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग की छापेमारी में राजनीतिक मंशा होने से इनकार करते हुए कहा कि एजेंसियां इनपुट्स के आधार कार्रवाई करती हैं।

मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ के करीबियों पर आयकर विभाग के छापों पर गृह मंत्री ने कहा कि इसके पीछे कोई राजनीतिक मंशा नहीं है। एजेंसियां इनपुट्स के आधार पर कार्रवाई करती हैं। विपक्षी नेताओं पर रेड के सवाल पर राजनाथ ने कहा कि सरकार पर आरोप लगाना गलत है। उन्होंने कहा, 'यह तो सालों से हो रहा है, आज शुरू नहीं हुआ है। यह कहना सही नहीं होगा कि यह किसी के इशारे पर किया जा रहा है। चुनाव आयोग फोर्स की मांग करती है और हम उसे उपलब्ध कराते हैं। सुरक्षाबलों की तैनाती आयोग के कहने पर होती है, केंद्र के कहने पर नहीं होती है।' एमपी में केंद्रीय सुरक्षाबलों और राज्य पुलिस के बीच नोकझोंक के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा कि इसका केंद्र सरकार से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा, 'हम इसके लिए जिम्मेदार नहीं हैं। चुनाव आयोग मामले को देखेगा।'

'राहुल के बयान पर ध्यान देने की जरूरत नहीं'
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा बीजेपी के घोषणापत्र पर ट्वीट के सवाल पर राजनाथ ने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि भारतीय राजनीति के इतिहास में इतने लोगों को घोषणापत्र बनाने की प्रक्रिया में शामिल किया गया हो। वह जो कुछ भी कर रहे हैं वह आधारहीन है। वह ऐसा कहते रहते हैं, उन्हें गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं है। बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी के घोषणापत्र को एक व्यक्ति की आवाज करार देते हुए मंगलवार को दावा किया कि इसे बंद कमरे में तैयार किया गया है और इसमें दूरदर्शिता का अभाव है। उन्होंने यह दावा किया कि उनकी पार्टी का घोषणापत्र लंबे विचार-विमर्श के बाद तैयार किया गया है और उसमें जनता की आवाज शामिल है। 

'भारत से कश्मीर को कोई ताकत जुदा नहीं कर सकती'
नैशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला के उस बयान पर कि अगर आर्टिकल 370 को हटाया गया तो कश्मीर भारत से अलग हो जाएगा, के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा, 'कश्मीर को कभी भी भारत से जुदा नहीं किया जा सकता है। कोई भी ताकत कश्मीर को भारत से जुदा नहीं कर सकती है।' जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला के बयान कि अगर आर्टिकल 370 और 35A हटाया जाता है तब हम राज्य में वजीर-ए-आजम और सदर-ए-रियासत के पद को फिर से बहाल करेंगे, पर सवाल पूछने पर राजनाथ सिंह ने कहा, 'हमने अपने घोषणापत्र में साफ किया है कि अगर हम दोबारा सत्ता में आएंगे तो आर्टिकल 35A को हटा दिया जाएगा। देश में दो राष्ट्रपति और दो प्रधानमंत्री होने का सवाल ही नहीं है।'

'35A पर जो हमने तय किया वहीं करेंगे'
आर्टिकल 35A हटाने पर कश्मीर समेत पूरे देश के जलने वाली पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती की धमकी के सवाल पर गृह मंत्री ने कहा, 'यह उनकी कुंठा है, कुछ और नहीं। वह कुछ भी कहने के लिए स्वतंत्र हैं, लेकिन हम वही करेंगे जो हमने तय किया है।'

सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक के बारे में आडवाणी को दी थी जानकारी
पाकिस्तान में आतंकियों के खिलाफ किए गए सर्जिकल स्ट्राइक की चर्चा करते हुए राजनाथ ने कहा कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को इस बारे में जानकारी दी गई थी। उन्होंने कहा कि बालाकोट एयर स्ट्राइक के दौरान आम नागरिकों को नुकसान न पहुंचे इसके लिए पूरी सतर्कता बरती गई थी। राजनाथ सिंह ने कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेता आडवाणी को सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक के बारे में जानकारी दी गई थी। गृह मंत्री ने कहा, 'आडवाणी लंबे समय से राजनीति में हैं और हमारी प्रेरणा के स्रोत हैं। हमने स्ट्राइक के दौरान पाकिस्तान की संप्रभुता पर हमला किए बिना आतंकी ठिकानों को ध्वस्त किया।'

टू मैन पार्टी और वन मैन शो के आरोप पर यह बोले 
क्या बीजेपी टू मैन पार्टी और वन मैन शो है? इस सवाल पर राजनाथ सिंह ने कहा, 'यह सब आधारहीन बातें हैं। पार्टी अध्यक्ष और प्रधानमंत्री को महत्व तो दिया ही जाएगा। जब मैं पार्टी अध्यक्ष था और मोदी जी प्रधानमंत्री उम्मीदवार तब हमारा नाम लिया जाता था। यह तो आम बात है।' राजनाथ सिंह ने कहा कि यह कभी नहीं कहा गया कि 15 लाख रुपये लोगों के अकाउंट में आ जाएंगे। 

नरेंद्र मोदी ही होंगे हमारे पीएम: राजनाथ
बीजेपी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलने पर नितिन गडकरी के पीएम उम्मीदवार के सवाल पर राजनाथ सिंह ने कहा, 'ये सब काल्पनिक सवाल है। ये ख्याली पुलाव है और कुछ नहीं। हमें पूरा बहुमत मिलेगा। पीएम मोदी ही होंगे और इसमें किसी को कोई शक नहीं होना चाहिए।